स्वर्ग की दूसरी सीढ़ी पोड़ीवाला।

स्वर्ग की दूसरी सीढ़ी पोड़ीवाला।

स्वर्ग की दूसरी सीढ़ी पोड़ीवाला।



आपने स्वर्ग की  पहली  सीढ़ी के बारे मे तो जरूर पता होगा जो की हर की पोड़ी के नाम से हरिद्वार मे स्थित है । पर क्या आपने स्वर्ग की दूसरी सीढ़ी के बारे मे सुना है जंहा रावण ने तपस्या कर दूसरी सीढ़ी का निर्माण किया था। तो हम आपको स्वर्ग की दूसरी सीढ़ी के बारे मे बताने जा रहे है ।

स्वर्ग की दूसरी पोढ़ी जंहा रावण ने तपस्या कर के बनाई थी। हिमाचल के सिरमौर जिले के नाहन तहसील मे स्थित है। यह नाहन से 5 k.m. दूर है तथा हरयाणा के नारायनगड़ से 20 km दूर है। माना जाता है यंहा हर भक्त की मानोकामना पूरी होती है। यह घने जंगल के बीच मे स्थित है। तथा मंदिर के चारों तरफ घना जंगल है तथा साइड मे छोटी सी नदी बहती है। यह आंबवाला गाँव के साथ स्थित है। यहाँ पर हजारों की तादाद मे भारत की जगह जगह से भक्त आते है । माना जाता है कि यहाँ रावण ने भगवान शिव कि कड़ी तपस्या की थी ओर स्वर्ग की दूसरी सीढ़ी का निर्माण किया था। 

पोड़ीवाला धाम मे हर शिवरात्रि पर हजारों लोग यहाँ भगवान शिव का दर्शन करने आते है । शिवरात्रि पर यंहा बड़ी धूम धाम से मेला लगता है तथा कई घंटे तक भक्तों की लाइन मे लग कर शिव के दर्शन प्राप्त होते है 
मान्यता है कि यहाँ पर जो शिवलिंग स्थित है उसे ध्यान से देखने पर शिवलिंग पर बना भगवान शिव का चेहरा दिखाई देता है । मान्यता एसी भी है कि रावण द्वारा निर्मित शिवलिंग हर शिवरात्रि एक चावल के दाने जितना बढ़ जाता है 
  
 हर साल शिवरात्रि पर लोग यंहा दूर दूर से पैदल यात्रा चल कर भी आते है अगर आप स्वर्ग कि पहली सीढ़ी कि यात्रा यानि हरिद्वार मे हर कि पोड़ी का दर्शन कर चूकें है तो आपको स्वर्ग कि दूसरी सीढ़ी कि यात्रा भी करनी चाहिए 
धन्यावाद 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां