योग के शारीरक ओर मानसिक लाभ ।

 योग के शारीरक ओर मानसिक लाभ । (Physical and mental benefits of yoga)

योग के लाभ


योग का अर्थ क्या है?

योग के लाभ➡️  योग ये शब्द प्राचीन काल से हमारे देश मे जाना जाता है। हजारों वर्षों से लोग इसे अपने दैनिक जीवन मे करते आए है। योग कई प्रकार के होते है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए योग का मह्त्व्पुरण योगदान होता है। आमतौर पर योग के द्वारा आत्मा का परमात्मा से मिलन होता है। 

योग से हमारा पूरा शरीर स्वस्थ हो जाता है। हमारे देश के ऋषि मुनियों ने योग को मह्त्व्पुरण स्थान दिया है। ऋषि मुनि योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा मानते थे। शायद यही कारण है कि वो 100 से भी ज्यादा सालों तक स्वस्थ जिंदगी जीते थे।

आजकल कि भागदौड़ भरी जिंदंगी मे लोग अपने काम को ज्यादा महत्व देते है जो ठीक भी है। पर काम के चक्कर मे लोग अपने शरीर के बारें मे नहीं सोचते या योग को अपनी जिंदगी मे नहीं अपनाते। शायद यही कारण है कि भारत मे अधिकतर लोग मोटापे या अन्य बीमारियों के शिकार हो जाते है।

योग के फायदे योग के अनुसार होते है। कुछ योग मानसिक विकाश के लिए किए जाते है तो कुछ योग शारीरक विकास के लिए किए जाते है। बीमारियों को ठीक करने के लिए भी योग सहारा लिया जाता है। योग हमे अपने दैनिक जीवन  का हिस्सा बनाना चाहिए तभी स्वस्थ, बीमारियों से मुक्त, मानसिक रूप से स्वस्थ, चुस्तीला ओर फुर्तीला बने रहने के साथ साथ हर कार्य करने की क्षमता शरीर मे आ जाती है।

योग से शारीरक समस्याओं का इलाज किया जा सकता है जिसे अब तक आधुनिक विज्ञान ने भी नहीं खोजा है।

योग के इतने स्वस्थ लाभ है कि गिनवाए नहीं जा सकते है। योग से लगभग हर बीमारी का इलाज संभव होता है।
बस उसे करने की प्रक्रिया के बारे मे जानकारी होनी चाहिए। तो आइए जानते है योग के फ़ायदों के बारे मे।

  • महत्व और योग के लाभ
  • योग से क्या लाभ है?
  • योग के प्रकार और फायदे
  • योग से लाभ और हानि


    योग के लाभ निम्नलिखीत हैं।

    शारीरक लाभ 
    • योग करने से शरीर लचीला बनाता है
    • योग से शरीर बलवान होता है।
    • योग से हड्डियाँ मजबूत बनती हैं।
    • योग आलस को खतम करता है।
    • योग से लगभग हर तरह की बीमारी को दूर किया जा सकता है।
    • योग से चेहरे पर चमक आती है।
    • योग से मोटापा कम करने मनचाहा वजन पाया जा सकता है।
    • योग से मांसपेशियाँ मजबूत ओर लचीली बनती हैं।
    • योग से लंबी उम्र पायी जा सकती है।
    • योग से सहन शक्ति बढ़ाई जा सकती है।
    • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने मे योग के लाभ होते है।
    • बलवान शरीर पाने के लिए योग का सहारा लिया जा सकता है।
    • अस्थमा, ब्लड प्रेसर, गढ़िया, पाचन संबंधी विकार, जोड़ों मे दर्द, कोलेस्ट्रॉल आदि का योग के द्वारा इलाज किया जा सकता है ओर कई अन्य बीमारियों मे योग के लाभ होते हैं।
    • बुरी आदतों जैसे पड़े रहना, बैठे रहना, अधिक सोना, देर से उठना, विडियो गेम्स खेलना, नशा करना आदि बुरी आदतों को खत्म करने मे योग के फायदे होते हैं।
    • पूरा दिन फिट रहने के लिए योग के फायदे होते हैं।
    • योग से सर्वगिन विकास होता है।
    • योग से बीमारियों से बचा जा सकता है।
    • योग से रुकी लंबाई का विकास होता है। 
    • योग से मांसपेशियों का विकास होता है।
    • यीग से मांसपेशियों मे लचिलापन आता है।
    • भूक न लगने जैसी समस्याओं मे योग के लाभ होते है।
    • ज्यादा भूख लाग्ने जैसी समस्याओं मे भी योग के लाभ है।
    • जोड़ों मे समस्याओं के समाधान मे योग के लाभ होते है।
    • योग से कमजोरी की समस्या का हल किया जा सकता है।
    • पेट की समस्याओं मे योग के लाभ होते है।
    • योग के बीमारियों मे फायदे बीमारी के अनुसार योग करने से होते है।
    •  नशे को त्यागने मे योग के लाभ है।

    योग के मानसिक लाभ

    • दिमाग के लिए योग के फायदे बहुत लाभकारी है।
    • स्मरण शक्ति बढ़ाने मे योग का सहारा लिया जाता है।
    • योग से ध्यान केन्द्रित करने की शक्ति को बढ़ाया जा सकता है।
    • दिमागी दिमागी बीमारियों से योग द्वारा बचा जा सकता है।
    • यादस्त को बढ़ाने मे योग के लाभ होते है।
    • नियमित योग से समय पर सही फैसले लेने की शक्ति को बढ़ाया जा सकता है।
    • योग से स्ट्रेस की समस्या से बचा जा सकता है।
    • योग से गंदे विचार दिमाग मे आने की बजाए सही विचार आते है।
    • सही निर्णय लेने मे योग के लाभ होते है।
    • योग से हमारी इंद्रियों को सुधारा जा सकता है आदि।
    ये भी जाने ➡️ तुलसी के फायदे 

    योग के प्रकार 

    योग के लाभ


    आमतौर पर योग चार प्रकार के होते है।
    • ज्ञान योग
    • कर्म योग 
    • भक्ति योग
    • राज योग

    ज्ञान योग  
    ज्ञान योग एक ऐसा योग है जो बुद्धि से संबन्धित है। इस योग के रास्ते पर चलने से व्यक्ति बुद्धिमान ओर विद्वान बन सकता है। इस योग मे ग्रन्थों का ज्ञान हासिल किया जाता है यह सबसे कठिन योग माना जाता है।
    इस योग मे बहुत अधिक अध्ययन करना पड़ता है।

    कर्म योग 
    कर्म का अर्थ होता है काम। इसमे कर्म योग का अर्थ यह है कि मनुष्यों को हमेशा धर्म के रास्ते पर चलना चाहिए दूसरे लोगों की सेवा बिना किसी फल की इच्छा किए करनी चाहिए हमेशा सचाई का साथ देना चाहिए। अपना जीवन निस्वार्थ रूप से जीना चाहिए। अपना कार्य ऐसे करें जिससे किसी दूसरे को हानी न हो ओर धर्म की भावना हो। जो लोग ये कार्य करते है वो कर्म योग करते है।

    भक्ति योग 
    भक्ति करना ही भक्ति योग कहलाता है हमारे अंदर परमात्मा के दिखाये रास्ते पर चलना ओर उसकी भक्ति करना ही भक्ति योग है। सभी को भक्ति योग करना चाहिए।

    राज योग
    राज योग, योग का सबसे महत्वपूरण अंग है इसे महारिशी पतंजलि ने अष्टांग योग भी कहा है। इसे अष्टांग योग इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमे 8 अंग आते है। अष्टांग योग के लाभ शरीर ओर मानसिक विकास के लिए बहुत फायदेमंद है। आजकल लोग सिर्फ आसान को ही ज्यादा महत्त्व देते है ओर योग समझते है पर ये सिर्फ राज योग का एक अंग है।  ये निम्नलिखित है। 
    • यम यानि शपथ लेना 
    • नियम
    • आसन 
    • प्राणायाम 
    • प्रत्याहार यानि इंद्रियों पर नियंत्रण
    • एकाग्रता 
    • ध्यान 
    • समाधि
    ये भी जाने ➡️ बीयर पीने के फायदे 

    योग कब करना चाहिए? योग के फ़ायदों के लिए सही समय

    • योग का सही समय हमेशा सूर्य उदय के समय ओर सूर्य अस्त के समय होता है।
    • योग को ज़्यादातर सुबह किया जाता है।
    • योग को कभी भी बिस्तर या बेड पर नहीं करना चाहिए।
    • योग को नीचे चटाई बिछा कर करना बहुत फायदेमंद होता है।
    • कई लोगो का सवाल होता है कि योग करने के कितनी देर बाद नहाना चाहिए? योग करने के बाद लगभग 30 मिनट से 1 घंटे के बाद नाहन अच्छा रहता है।
    ये भी जाने ➡️ ग्रीन टी के फायदे 

    योग के कितने आसन है? ओर योगासन विडियो मे से देखें।

     

    योग करने के लिए सावधानियाँ

    • अगर आप यो कि शुरुआत करने जा रहे हैं तो कभी भी मुश्किल आसान न करें। कुछ समय बाद आपके अंदर मुसकिल आसान करने के क्षमता आ जाएगी।
    • योग के लाभ के लिए गुरु की सहायता लेना बहुत जरूरी है।
    • 8 या 10 वर्ष की उम्र के बच्चों के आसान आसान ही करवाएँ।
    • योग करते समय कभी भी जल्दबाज़ी न करें।
    • शरीर के साथ ज़ोर जबर्दस्ती न करें।
    • अगर आपका कोई ओप्रेसन हुआ है तो आपको डॉक्टर की सलाह से योग करना चाहिए।
    • योग कभी भी शोर शराबे वाली जगह पर न करें।
    • योग करते समय खान पान न करें आदि।
    अगर आप हर रोज योग करते हो तो आपको कोई भी बीमारी नहीं हो सकती। योग को हर व्यक्ति को अपनाना चाहिए। योग से हमारी शारीरक ओर मानसिक शक्ति मे वृद्धि होने के साथ साथ बीमारियों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ती है। अगर आपको योग के लाभ पाने है तो योग को नियमित रूप से करें। अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आयी हो तो साइड मे लगा लाइक का बटन जरूर दबाएँ। किसी भी प्रकार से सवाल के लिए आप हमे कॉमेंट कर सकते है। ज्यादा जानकारी के लिए होमपेज देखे।
    Previous
    Next Post »